दरभंगापटनाबिहारबेतिया जिलामुजफ्फरपुरवैशालीसमस्तीपुर

समस्तीपुर चकमेहसी के शमशेर उर्फ हैप्पी की हत्या करके जहां शव को फेंका गया वहां के ग्रामीणों से एक सनसनीखेज खबर मिली

बिहार , समस्तीपुर -:

समस्तीपुर के गांव+थाना चकमेहसी के रहने वाले सिर्फ 20 वर्ष के नौजवान शमशेर उर्फ हैप्पी के हत्या हो जाने की खबरें आप लोगों को देता आ रहा हूं, जिसे चखेदर गांव के रहने वाले प्रभात चौधरी और उसके पिता संजय चौधरी घर से बुलाकर ले जाते हैं, और निर्मम तरीके से हत्या कर देते हैं ।

जिसकी शव घर से 130 किलोमीटर दूर मधुबनी के खुटौना थाना क्षेत्र में 31/12/2020 को पाई जाती है ।
चकमेहसी थाना की पुलिस- प्रशासन 5 दिन बाद यानी 4/01/2021 को लगभग शाम 3:00 बजे घर वालों को एक शव के मिलने की खबर देते हैं, और कहते हैं कि शिनाख्त करने के लिए मधुबनी सदर अस्पताल चलना है ।

घरवाले शिनाख्त के लिए जाते हैं तो वह शव शमशेर का ही होता है , अब आप समझ सकते हैं कि पुलिस प्रशासन मृतक शमशेर को ढूंढने में कितनी लापरवाही दिखाई और 5 दिनों बाद शमशेर के शव का घर वालों को सूचना देती है।
पुलिस – प्रशासन की कोताही की वजह से शमशेर उर्फ हैप्पी की ज़िन्दगी खत्म हो गई।

अगर पुलिस प्रशासन सही तरीके से ढूंढने में सक्रियता दिखाती तो आज शमशेर जिंदा होता या फिर उसका शव सही सलामत मिलता । चकमेहसी पुलिस प्रशासन अभी तक उस स्थल पर नहीं गई जहां शमशेर का शव पाया गया था ।
अगर उस स्थल पर पहुंची है तो सिर्फ और सिर्फ हमारी टीम (तहकीक इंडिया न्यूज़) कल हमारी टीम उस स्थल पर पहुंची जहां पर शमशेर के शव को फेंका गया था हमारी टीम घटनास्थल से 3 किलोमीटर दूर से ही ग्राउंड रिपोर्ट करते हुए घटना स्थल तक पहुंचती है और आस पास के लोगों से शमशेर के शव के बारे में पूछ – ताछ करती है।
हमारी टीम को एक शक होता है कि शमशेर के जिस्म पर 5 गोलियां नहीं बल्कि 5 से ज़्यादा गोलियां लगी है और इस की तहकीक के लिए हमारी टीम उस स्थल पे पहुंच जाती है जहां शमशेर का शव पाया जाता है । जांच – पड़ताल
में स्थानीय लोगों से पता चलता है कि शमशेर को 5 नहीं बल्कि 11गोलियां मारी गई थी ।
स्थानीय लोगों से ये भी पता चलता है कि शमशेर को गोलियां मारने से पहले बहुत बेरहमी से अपराधियों ने मारा था। जिसका निशान साफ तौर पे देखा जा सकता है।
घटनास्थल से महज 5 मिनट की दूरी पर एक चाय की दुकान थी जहां उन्होंने बताया कि
शमशेर के बदन में (मधुबनी के खुटौना क्षेत्र ग्रामीणों के अनुसार )11 गोलियां शमशेर के बदन में मारा गया था

जिससे शमशेर की बदन छलनी छलनी हो गई थी ।
इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी चकमेहसी थाना की पुलिस-प्रशासन हाथ पर हाथ रख कर बैठी हुई है ,और अपराधी अपराध करके घटना को अंजाम देकर फरार है ।अब तक उसकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है । अब तक उसके घर की कुर्की जब्ती हो जानी चाहिए थी लेकिन अब तक नहीं हुई है । इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि पुलिस प्रशासन किस प्रकार शमशेर के अपराधियों को ढूंढने में कार्य कर रही है ।

मृतक शमशेर के परिजनों का और गांव वालों का कहना है कि पुलिस प्रशासन की लापरवाही की वजह से शमशेर की जान गई । अगर पुलिस प्रशासन वक्त रहते शमशेर को ढूंढने का कार्य करती तो शमशेर जिंदा होता या फिर उसकी उसकी शव सही सलामत मिलती।
आज खबर लिखे जाने तक शमशेर के अपराधियों की अब तक गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close