बिहारसमस्तीपुर

उजियारपुर सी डी पी ओ कार्यालय पे आंगनबाड़ी सेविकाओं ने दिया धरना प्रदर्शन।

समस्तीपुर मंडल - बिहार

User Rating: Be the first one !

समस्तीपुर ( संवाददाता)

एल एस का बच्चा सोता है मेरा बच्चा रोता है लाल सरी करे पुकार नहीं सहेगे अत्याचार:- नव सृजित सेविका।

ईट से ईट बजा देगें परियोजना को हिला देगें:- एक सेविका।

जहां माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी एक से बढ़कर एक उपलब्धि गिनाने में लगें हैं वहीं समस्तीपुर जिला अंतर्गत उजियारपुर प्रखंड स्थित बाल विकास सेवा परियोजना कार्यालय की भारी लापरवाही पूरे उपलब्धि पे कालीख पोत रही है यहां के नवसृजित सेविकाओं का माने तो बहाली डेढ़ साल पहले की गई लेकिन मानदेय अभी तक किसी भी सेविका को नहीं मिली है जब इस संदर्भ में परियोजना पदाधिकारी से पूछी गई तो उन्होंने बताए कि सभी नवसृजित सेविका का कागजात की सत्यापन बोर्ड के द्वारा होना है जो अभी तक नहीं हो पाई है इसी वजह से मानदेय नहीं जा रही है अब सबसे बड़ी सवाल उठती है आखिर बोर्ड का सही में लापरवाही है जिसकी खामियाजा सेविकाओं को भुगतनी पड़ रही है या बाल विकास परियोजना कार्यालय की ये कौन बताएंगे खैर मामला जो भी लेकिन एक बहुत ही बड़ा सवाल इस चुनावी वर्ष में मुख्यमंत्री जी से आखिरकार क्यो ऐसा लचर व्यवस्था है आपकी व्यवस्था का क्यों नहीं किया जाय विचार कौन कहता है डीके तो है नीतिश कुमार अगर ठीक है नीतिश कुमार तो जल्द से जल्द विचार कर समस्या का समाधान करें वहीं आंगनबाड़ी सेविका संघ के जिलाध्यक्ष किरण कुमारी ने बताई कि नई बहाली वाली सेविका अपने जेब से खर्च कर परियोजना डेढ़ साल से चला रही है अन्नप्रासन गोदभराय आदि की भी पैसा नहीं आती है जब तक हमलोग को समस्या का समाधान नहीं होगा घेराव व धरना प्रदर्शन जारी रहेगें कुछ सेविका प्रधान सहायक चौधरी पी के राय पर भी अपत्तिजनक टिप्पणी करते बड़ा बाबू मुर्दा बाद का नारा भी लगाते नजर आ रहे थे जब इस संदर्भ में प्रधान सहायक से पुछा गया तो उन्होंने एकदम अपना काम कर्तव्य निष्ठा पूर्वक करने की बात कही जब धरना प्रदर्शन को लेकर बाल विकास परियोजना पदाधिकारी रीता सिन्हा ने बताया कि नये बहाली वाली सेविका का कागजात सत्यापन हेतु बोर्ड आफिस भेज दिया गया है वहां से सत्यापन होगा फिर मानदेय दिया जाएगा वहीं बाद बाकी राशि भेज देने की बात कही वहीं सेविका सभी अपनी मांगों पे डटे दिखे मौके पर किरण कुमारी,आरती कुमारी, चंदा कुमारी, रमा कुमारी, मीना कुमारी, मीना कुमारी ,सुलेखा कुमारी, कुमारी अंजली,आशा कुमारी,रेणु कुमारी,शोभा कुमारी,चंदा,हेमलता कुमारी,पिंकी कुमारी,चांदनी कुमारी,रीना कुमारी,रीमा कुमारी,स्वीटी,चुनचुन कुमारी सहित दर्जनों सेविका एवं सहायिका मौजूद थे।

Tags

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close