उत्तरप्रदेशगाजियाबादलखनऊ

लखनऊ/हापुड : पिता ने ही सुपारी देकर करा दी बेटे की हत्या

मां-बाप और बहन की पिटाई करता था शराबी बेटा, महंगे शौक पाल रखे थे

*हत्यारों के साथ पिता भी गिरफ्तार, जेल भेजे गए*

*एसपी ने दी जानकारी, अभियुक्तों को पेश किया गया*

*कार के अंदर मिली थी गर्दन रेती हुई ऋषभ की लाश*

*लखनऊ/हापुड़।* “लग्जरी कार खरीदने के कुछ ही दिन बाद बेटे ने फिर एक और कार खरीदने की जिद की और मांग पूरी न होने पर पिता की पिटाई कर दी। यही नहीं आवारा बेटा पिता के साथ मां की भी पिटाई करता था, इससे तंग आकर पिता ने सुपारी देकर बेटे की हत्या करा दी।” पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही हत्या का खुलासा करते हुए तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। बताते चलें कि सिंभावली क्षेत्र के गांव औरंगाबाद माधापुर के जंगल में 22 जुलाई को गाजियाबाद निवासी ऋषभ नामक युवक का गर्दन कटा शव कार के अंदर मिला था। ऋषभ की हत्या किसी और ने नहीं, बल्कि उसके पिता ने दो लाख रुपये की सुपारी देकर कराई थी। वह पुत्र की बुरी आदतों से तंग आ चुका था, जिसके चलते उसने पुत्र की हत्या कराने की ठानी। पुलिस ने आरोपितों से 1लाख 30 हजार रुपये बरामद किए हैं।
पुलिस अधीक्षक संजीव सुमन के अनुसार 22 जुलाई की सुबह माधापुर के किसानों ने गांव के जंगल में पीले रंग की कार में युवक का शव ड्राइवर सीट पर पड़ा देखा था। युवक का गला धारदार हथियार से रेतने के बाद कपड़े से कार की ड्राइवर सीट से बांधा गया था। पुलिस ने शव की शिनाख्त ऋषभ तोमर पुत्र कमल चंद तोमर निवासी गाजियाबाद के रूप में हुई थी।
*बेटे को सुधारने की बहुत कोशिश की पर…..*
एसपी के अनुसार ऋषभ के पिता कमल चंद तोमर ने बताया कि ऋषभ अपनी मां और उसके साथ आए दिन मारपीट करता था। वह शराबी और आवारा था, कोई काम नहीं करता था और पिता से अक्सर रुपयों की मांग करता रहता था। पिता के अनुसार ऋषभ को महंगी गाड़ी, कपड़े व महंगे मोबाइल खरीदने का शौक था। वर्ष 2012 से वह माता-पिता के अलावा छोटी बहन से भी मारपीट करता चला आ रहा था। पुत्र को मानसिक बीमारी से निजात दिलाने के लिए 2014 से दिल्ली के एक अस्पताल से उसका इलाज भी कराया जा रहा था। काफी समझाने के बाद भी वह नहीं सुधरा तो उसके कुकृत्यों से परेशान होकर उसने अपने पड़ोसी कमल पाल को 2 लाख रुपये का लालच दिया। कमल पाल ने अपने साथी प्रमोद के साथ मिलकर नियोजित तरीके से माधापुर के जंगल में लाकर गला दबाकर हत्या कर दी और कांच से गला काट दिया।
*और ऐसे घूमी शक की सुई पिता की ओर…..*
हत्यारोपित सन्नी मृतक के पिता कमल चंद का बेहद करीबी है, कमल चंद के मकान के बराबर में उसकी साइकिल की दुकान करता है। करीब दस दिन पहले कमल चंद ने सन्नी की दुकान पर बैठकर ही पुत्र की हत्या का प्लान तैयार किया था। ऋषभ की मौत की खबर मिलने पर पिता कमल चंद परिवार के लोगों के साथ हापुड़ पहुंचा, लेकिन पुत्र की मौत का सदमा परिवार के किसी भी व्यक्ति के चेहरे पर देखने को नहीं मिला। इसके अलावा कमल चंद ने इस संबंध में पहले रिपोर्ट दर्ज न कराकर पुत्र का शव ले जाने की मांग की, इकलौते पुत्र की हत्या के बाद रिपोर्ट दर्ज कराने से इंकार करने की बात पुलिस के गले नहीं उतरी। जिसके बाद पुलिस ने कमल चंद व उसके परिवार के लोगों से सख्ती से पूछताछ की, जिसके बाद कमल चंद ने पुत्र की हत्या का षडयंत्र रचने की बात कबूल कर ली।
*शराब का लालच देकर साथ ले गए और हत्या कर दी*
पुलिस अधीक्षक के अनुसार हत्यारोपित कमल पाल ने पूछताछ के दौरान बताया कि योजना के अनुसार ऋषभ को शराब पिलाने का लालच देकर उसकी कार में सवार होकर हापुड़ ले आया। हापुड़ से उसने अपने साथी प्रमोद को साथ लिया और ब्रजघाट में गंगा में स्नान करने की योजना बनाई। इसके बाद तीनों कार में सवार होकर थाना सिम्भावली के गांव औरंगाबाद के जंगल में पहुंच गए। वहां तीनों ने शराब पी और जब ऋषभ अधिक शराब पीने के कारण अत्यधिक नशे में हो गया तो उसकी गला घोंट कर हत्या कर दी। इसके बाद शराब की बोतल तोड़ कर उसके कांच से उसका गला काट दिया और फरार हो गए थे।
पुलिस ने अभियुक्त कमल चंद तोमर से 10 हजार की नगदी, कमल पाल उर्फ सन्नी से 60 हजार रुपए तथा प्रमोद के कब्जे से 60 हजार रुपए बरामद किए हैं।ऋषभ के पिता सहित तीनों अभियुक्तों को जेल भेज दिया गया है। ( 24 जुलाई 2020

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close